रिपोर्ट @मिर्जा अफसार बेग 

सायबर सेल शहडोल की सोशल मीडिया विंग की प्रभावी कार्यवाही

मिस्ड कॉल से हुई दोस्ती दुष्कर्म में बदली मुम्बई से आया दोस्त हिरासत में

श्री कुमार प्रतीक पुलिस अधीक्षक शहडोल द्वारा बताया गया कि सोशल मीडिया पर प्रभावी निगरानी रखे जाने एवं उस पर होने वाले अपराधों की रोकथाम हेतु सायबर सेल शहडोल में सोशल मीडिया विंग गठित की गई है जिसके द्वारा लगातार सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफार्म जैसे फेसबुक,इंस्टाग्राम, लाईन, टिवटर, वी- चेट इत्यादि पर लगातार निगाह रखी जा रही है और इन प्लेटफार्म पर सामाजिक रूप से बदनाम करने वाले लोगो पर प्रभावी कार्यवाही की जा रही है। बताया गया कि ग्राम ढोलकू की रहने वाली नाबालिका द्वारा एक लेखी शिकायत प्रस्तुत कर फेसबुक पर उसके अश्लील फोटो पोस्ट कर उसे सामाजिक रूप से बदनाम करने की शिकायत की गई थी। सायबर सेल द्वारा प्राप्त शिकायत के आधार पर संदिग्ध फेसबुक आय. डी. के यू.आर.एल. की जानकारी प्राप्त कर फेसबुक से उसकी सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त की गई।

फेसबुक से प्राप्त जानकारी के आधार पर पाया गया कि महेन्द्र महरा पिता कोदू महरा उम्र 22 साल निवासी ग्राम तितरा रसमोहनी थाना जैतपुर द्वारा स्वयं के मोबाईल नम्बर पर फेसबुक की फर्जी आई. डी. बनाकर नाबालिका के अश्लील फोटो पोस्ट कर उसे सामाजिक रूप से बदनाम किया गया था एवं उसकी पोस्ट वायरल करने की धमकी देकर उसके साथ पूर्व में दुष्कर्म कर चुका था और मुम्बई में काम करने जाकर वहां से उसे धमका रहा था और गांव आने पर पुनः उसके साथ दुष्कर्म करने के लिए धमका रहा था ।संदिग्ध महेन्द्र महरा ग्राम तितरा से मुम्बई के बान्द्रा जाकर वहां पर नौकरी कर रहा था जिसे आवेदिका से पुनः मिलने का बहाना बनाकर बुढार बुलाया गया जो मिलने की चाह में बुढार आ गया जहां सायबर सेल और थाना बुढार की संयुक्त कार्यवाही से संदिग्ध महेन्द्र महरा कोदू महरा निवासी 22 ग्राम तितरा जो वर्तमान में बान्द्रा मुम्बई में नौकरी कर रहा था को बुढ़ार से हिरासत में लिया जाकर दुष्कर्म एवं सोशल मीडिया पर अश्लील फोटो वायरल करने हेतु आय. टी. एक्ट की धाराओं में अपराध पंजीबद्ध कर आरोपी को न्यायिक हिरासत में जेल दाखिल किया गया है ।

सम्पूर्ण कार्यवाही में थाना प्रभारी बुढार श्री राजेशचन्द्र मिश्रा श्रीमती वर्षा बैगा उप निरीक्षक एवं सायबर सेल प्रभारी सउनि अ अमित दीक्षित एवं महिला आरक्षक श्रीदेवी सिंह एवं आरक्षक प्रकाश द्विवेदी की उल्लेखनीय भूमिका रही है।

एडवाईजरी :- सोशल मीडिया पर फर्जी आई. डी. क्रियेट कर लोगो को सामाजिक रूप से बदनाम नहीं करें।